Devgowda melted by PM Modi's praises, read altercation, but did not say on coalition
शहर विशेष
PM मोदी की तारीफ से पिघले देवगौड़ा,पढ़े कसीदे,लेकिन गठबंधन पर कहा ना
बेंगलुरु,02/मई/2018/ITNN>>> कर्नाटक विधानसभा चुनाव में मतदान की तारीख नज़दीक आते ही राजनीतिक बयानबाजी बढ़ रही है. इसके अलावा नए समीकरण भी साधे जा रहे हैं. मंगलवार को कर्नाटक में रैली को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवगौड़ा की तारीफ में पुल बांधे. अब बुधवार को बदले में देवगौड़ा ने भी पीएम मोदी की तारीफ की है.

पूर्व पीएम का कहना है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जब भी किसी राज्य में जाते हैं,तो वहां के मुद्दों को समझते हैं और उसके बारे में बात करते हैं. यहां भी उन्होंने ऐसा ही किया है. बता दें कि मंगलवार को पीएम मोदी ने कहा था कि पूर्व प्रधानमंत्री देवगौड़ा ने दिल्ली में जब भी वक्त मांगा, मैं उनसे मिला. देवगौड़ा जब घर आते हैं तो मैं उनकी गाड़ी का दरवाजा खोलकर उनका स्वागत करता हूं. जब वे जाते हैं तो मैं उनको गाड़ी में बैठा कर आता हूं. वे हमारे राजनीतिक विरोधी हैं,लेकिन वे हमारे सम्मानीय नेताओं में से एक हैं.

इस पर भी देवगौड़ा ने कहा कि प्रधानमंत्री ने जो कहा है वही काफी है. लेकिन इसके अलावा और कुछ भी नहीं है. देवगौड़ा बोले कि मोदी जानते हैं कि सिद्धारमैया किस तरह मेरे बारे में बात करते हैं. हालांकि, उन्होंने कहा कि वह अकेले दम पर राज्य में सरकार बनाएंगे और किसी के साथ नहीं जाएंगे. बुधवार को पत्रकारों से बात करते हुए पूर्व प्रधानमंत्री ने कहा कि पीएम मोदी ने एक बार कहा था कि थर्ड फ्रंट की थर्ड क्लास सरकारें बनाते हैं. तब मैंने कहा था कि लगता है मोदी अभी गुजरात से बाहर नहीं आए हैं. थर्ड फ्रंट ने केंद्र में सरकार बनाई हुई है,जब मैं पीएम था तो उन्हें मेरा काम देखना चाहिए.

देवगौड़ा ने बताया कि मैंने एक बार कहा था कि अगर मोदी अकेले दम पर सरकार बनाते हैं, तो वह संसद से इस्तीफा दे दूंगा. लेकिन कभी देश छोड़ने की बात नहीं की थी. 2014 के बाद मैंने इस्तीफा भी दिया तो मोदी ने मुझसे बात की. और कहा कि चुनाव में हम बहुत कुछ बोलते हैं, हर बात को दिल में नहीं रखना चाहिए. हमने करीब 15 मिनट तक बात की थी. देवगौड़ा ने कहा कि मैं जब भी मोदी से मिला तब ही किसान और राज्य के मुद्दे पर बात की. एक क्षेत्रीय पार्टी बनाना कोई आसान बात नहीं है,मेरे लिए राज्य काफी अहम है. उन्होंने कहा कि वह अकेले दम पर राज्य में सरकार बनाएंगे और किसी के साथ नहीं जाएंगे.

हालांकि,बीएसपी के साथ गठबंधन पर उन्होंने कहा कि हमने उन्हें 20 सीटें दी हैं,काफी जगह पर मायावती जी भी प्रचार करेंगी. मैंने खुद उनसे बात की थी.
गौरतलब है कि कर्नाटक में 12 मई को मतदान होना है. हाल ही में आए कई ओपेनियन पोल में त्रिशंकु विधानसभा होने की आशंका दिखाई दी. ओपेनियन पोल में देवगौड़ा की पार्टी जेडीएस किंग मेकर की भूमिका में नज़र आ रही है. इंडिया टुडे के पोल में कांग्रेस को 90 से 101 सीट और बीजेपी को 78 से 86 सीट मिलने की संभावना है. वहीं जेडीएस को 34-43 सीट मिलने की संभावना है.