शहर विशेष
मुंबई में 48 साल पुराने ओवरब्रिज का हिस्सा गिरा, 6 घायल, BMC-रेलवे में ब्लेम गेम शुरू
मुंबई,3/जुलाई/2018/ITNN>>>  मुंबई में मंगलवार सुबह अंधेरी रेलवे स्टेशन के पास एक बड़ा हादसा हुआ. यहां पर अंधेरी ईस्ट को अंधेरी वेस्ट से जोड़ने वाला रोड ओवरब्रिज का कुछ हिस्सा अचानक गिर गया. जिसके कारण अंधेरी रेलवे की चार लाइनें ठप हो गई हैं. मौके पर फायर ब्रिगेड पहुंच गई है और बचाव कार्य तेजी से चल रहा है. ये हादसा और भी बड़ा हो सकता था,लेकिन गनीमत रही कि ऐसा नहीं हुआ.

इस हादसे में 6 लोग घायल हुए हैं, जिनमें से दो लोग आईसीयू में हैं. जबकि अन्य 4 लोगों को फ्रैक्चर हुआ है. ये ब्रिज अंधेरी रेलवे स्टेशन के पास था,जिसके कारण अंधेरी से विरार जाने वाली ट्रेनों के संचालन को बंद कर दिया गया है. बताया जा रहा है कि सुबह करीब 7.30 बजे अचानक से ये ब्रिज गिर गया.
हादसे के बाद रेलवे और बीएमसी में एक दूसरे पर आरोप लगाने का सिलसिला चल रहा है. रेलवे ने अपनी प्रेस रिलीज़ में कहा है कि जो ब्रिज गिरा है वह बीएमसी का है. लेकिन जब बीएमसी से इस बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि ये रेलवे का ही ब्रिज है. बीएमसी के अधिकारी की मानें तो 1970 में इसे सिर्फ हमने बनाया था,लेकिन इसकी देखभाल का काम रेलवे का ही था.

तो टल गया बड़ा हादसा
बताया जा रहा है कि इस ब्रिज पर काम चल रहा था यानी ये ब्रिज अंडर कंस्ट्रक्शन था. इसके बावजूद भी लोगों को चलने दिया जा रहा था. वहीं पास में ही दो स्कूल भी हैं, रेलवे स्टेशन है. ये हादसा सुबह करीब 7.30 बजे हुआ, इस समय ज्यादा भीड़ नहीं थी. यानी अगर हादसा पीक ऑवर (भीड़-भाड़ का समय) के दौरान होता तो शायद नतीजा कुछ और ही होता.

फिर दिखी लापरवाही!
ब्रिज का स्लैब गिरने से कोई भारी नुकसान तो नहीं हुआ लेकिन ये प्रशासन की लापरवाही जरूर दर्शाता है. क्योंकि जब रोड ओवरब्रिज पर कंस्ट्रक्शन चल रहा था, तो इसे लोगों के लिए चालू क्यों किया गया था. मुंबई में लगातार बारिश हो रही है, ऐसे में कई पुलों पर लगातार पानी बह रहा है जो लोगों को डरा रहा है. एक चश्मदीद ने बताया कि ये ब्रिज करीब 50-60 साल पुराना है.

एलफिंस्टन से कोई सबक नहीं!
आपको बता दें कि इससे पहले भी मुंबई में फुटओवर ब्रिज से जुड़ा एक बड़ा हादसा हो गया था. बीते साल सितंबर, 2017 को मुंबई के ही एलफिंस्टन ब्रिज पर भगदड़ मच गई थी, जिस दौरान करीब 23 लोगों की मौत हो गई थी. इस ब्रिज को बाद में रेलवे और सेना ने साथ मिलकर युद्ध स्तर पर बनाया था.