Mumbai, Maratha Reservation, protesters stopped attacking trains and trains
शहर विशेष
मराठा आरक्षण से थमी मुंबई,प्रदर्शनकारियों ने किया बसों पर हमला व ट्रेनें रोकी
मुंबई,25/जुलाई/2018/ITNN>>> सरकारी नौकरियों और शिक्षण संस्थानों में आरक्षण को लेकर आज आहूत मराठा संगठनों के बंद के दौरान मुंबई और ठाणे में सरकारी बसों पर हमले किए गए जबकि लोकल ट्रेनें रोक दी गईं। मुंबई, ठाणे, पालघर, रायगढ़ और सतारा जिले की पुलिस बंद के दौरान किसी भी अप्रिय घटना को रोकने के लिए पूरी तरह मुस्तैद है। इस बीच औरंगाबाद से मिली खबर के अनुसार, कल प्रदर्शन के दौरान जहर पीने वाले प्रदर्शनकारी जगन्नाथ सोनवणे की आज स्थानीय सरकारी अस्पताल में मौत हो गयी। इससे पहले जिले के ही अन्य प्रदर्शनकारी 27 वर्षीय काकासाहब शिंदे ने गोदावरी नदी में कूद कर जान दे दी थी।

परिवहन निगम के अधिकारी ने बताया कि मुंबई,ठाणे और नवी मुंबई में प्रदर्शनकारियों ने नौ सरकारी बसों पर हमला किया है। प्रदर्शनकारियों ने मुंबई के कंजुरमार्ग और भांडुप इलाकों सहित अन्य जगहों पर सरकारी बसों पर पथराव किये और उनकी खिड़कियां तोड़ दीं। परिवहन निगम के एक अधिकारी ने बताया कि बसों पर हो रहे पथराव को ध्यान में रखते हुए बृहन्मुंबई इलेक्ट्रिक सप्लाई एंड ट्रांसपोर्ट (बीईएसटी) ने प्रभावित इलाकों में अपनी सेवा आंशिक रूप से निलंबित कर दी है और हालात सुधरने पर ही उसे पूर्ण रूप से बहाल करेगी।

मराठा आरक्षण Highlights

* प्रदर्शनकारियों ने मानखुर्द में सड़क अवरूद्ध करने का प्रयास किया लेकिन पुलिस ने उन्हें रोक दिया। 

* चांदीवली इलाके में टायर जलाने और जोगेश्वरी तथा कांदीवली में सड़कें अवरूद्ध करने का प्रयास किया लेकिन पुलिस ने उन्हें रोक दिया।

* बांद्रा, माटुंगा और मुलुंड इलाकों में प्रदर्शनकारियों ने सड़क पर मार्च निकाले और दुकानदारों से अपनी दुकानें बंद करने का अनुरोध किया। 

* प्रदर्शनकारियों ने पड़ोसी ठाणे जिले के वाग्ले एस्टेट इलाके में भी सरकारी परिवहन पर पथराव किया और घोड़बंदर रोड इलाके में टायर जलाए। लेकिन पुलिस ने उन्हें वहां से हटा दिया। 

* तीन हाथ नाका जंक्शन सहित कई रास्ते अवरूद्ध कर दिए जिसके कारण मुंबई जाने वाली सड़कों पर भीषण जाम लग गया।   

* नवी मुंबई के घनसोली इलाके में भी एक बस पर हमला हुआ है। घटना के बाद क्षेत्र में बस सेवा निलंबित कर दी गई है। पिछले शांतिपूर्ण प्रदर्शन के मुकाबले प्रदर्शनकारियों ने आज मध्य रेलवे और पश्चिम रेलवे की लोकल ट्रेनों को रोकने का प्रयास किया।

* कुछ प्रदर्शनकारियों ने जोगेश्वरी में सुबह नौ बजकर सोलह मिनट पर अप ट्रेन को रोकने का प्रयास किया, लेकिन उन्हें तुरंत पटरियों से हटा दिया गया। ट्रेन सेवा नौ बजकर चौबीस मिनट पर बहाल हो गई। 

* पश्चिम रेलवे की सभी ट्रेनें समय पर चल रही हैं। प्रदर्शनकारियों ने नवी मुंबई की ट्रांस हार्बर लाइन पर स्थित ठाणे और घनसोली स्टेशनों पर ट्रेनों पर पथराव किया जिसके कारण सेवा कुछ देर बाधित रही।

* मध्य रेलवे के जन संपर्कअधिकारी सुनील उदासी ने कहा, ठाणे और घनसोली पर सुबह करीब 10 बजे कुछ घटनाएं हुईं। लेकिन 10 बजकर 24 मिनट पर सेवा बहाल हो गई।

* नवी मुंबई के तुर्भे में मंडी बंद रही क्योंकि पालदार मराठा समुदाय के बंद का समर्थन कर रहे हैं। 

गौरतलब है कि मुंबई क्षेत्र में करीब 70 लाख लोग रोज लोकल ट्रेनों से यात्रा करते हैं। बंद के कारण सड़कों पर टैक्सियों और ऑटो रिक्शा भी कम ही नजर आ रहे हैं। कुछ जगहों पर प्रदर्शनकारियों ने मराठा समुदाय का कथित रूप से अपमान करने के लिए महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस और लोक निर्माण मंत्री चन्द्रकांत पाटिल के खिलाफ नारेबाजी की। सरकारी नौकरियों और शिक्षण संस्थानों में आरक्षण की मांग को लेकर हो रहे प्रदर्शनों का नेतृत्व करने वाले मराठा क्रांति मोर्चा ने आज मुंबई और आसपास के कुछ जिलों में बंद का आह्वान किया है। अन्य संगठन सकल मराठी समाज ने नवी मुंबई और पनवेल इलाकों में बंद का आह्वान किया है।

शिवसेना सांसद पर फूटा प्रदर्शनकारियों का गुस्सा
शिवसेना सांसद चंद्रकांत खेरे को उस समय प्रदर्शनकारियों के गुस्से का सामना करना पड़ा जब वे शिंदे के अंतिम संस्कार में शामिल होने के लिए औरंगाबाद के कायगांव गए थे। पुलिस ने बताया कि भीड़ ने उनके साथ धक्का-मुक्की की। उन्हें स्थान छोड़ना पड़ा। पुलिस ने बताया कि सांसद की गाड़ी पर भी पथराव हुआ है। औरंगाबाद नगर निगम की आम सभा ने शिंदे के परिवार को 10 लाख रुपए देने का फैसला किया है। इस बैठक में मराठा समुदाय के लिए नौकरियों और शिक्षण संस्थानों में 16 प्रतिशत आरक्षण मांगने वाले प्रस्ताव को भी मंजूरी दी गई। 

सांगली में राजस्व मंत्री चंद्रकांत पाटिल ने कहा कि राज्य सरकार ने जो भी उसके बस में था किया अब इस मामले पर अदालत फैसला करेगी। मराठा क्रांति मोर्चा के संयोजक रविन्द्र पाटिल ने कहा,जब तक मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस मराठा समुदाय से माफी नहीं मांग लेते हम अपना प्रर्दशन जारी रखेंगे। हम औरंगाबाद और राज्य के अन्य हिस्सों में बंद रखेंगे।