खेल
FIFA 2018 में क्रोएशिया बनी बाजीगर, कम रैंकिंग के बाद भी रचा इतिहास
मास्को,12/जुलाई/2018/ITNN>>> फीफा वर्ल्ड कप 2018 में इंग्लैंड को हराने के साथ ही क्रोएशिया ने इतिहास रच दिया. क्रोएशिया ने न सिर्फ पहली बार फुटबॉल विश्वकप में जगह बनाई, बल्कि रैंकिंग में इतने निचले पायदान से जाकर ऐसा करने वाली पहली टीम बनी. क्रोएशिया की मौजूदा फीफा रैंकिंग 20 है, जबकि इंग्लैंड 12वें नंबर पर काबिज है.

लड़कर की वापसी
फाइनल से पहले मुकाबले में 0-1 से पिछड़ने के बाद उस मैच को जीतने के मामले में भी क्रोएशिया ने कमाल किया है. ऐसा करने वाली वह पहली टीम बनी है, जिसने ऐसी वापसी की हो. बता दें कि एक वक्त में क्रोएशिया इंग्लैंड से 0-1 से पीछे चल रही थी. यही नहीं, डेनमार्क और रूस के साथ हुए मैचों में भी क्रोएशिया एक वक्त पीछे चल रही थी. बता दें कि अतिक्ति समय में 109वें मिनट में मारिया मांडजुकिक के गोल के दम पर क्रोएशिया ने बुधवार देर रात खेले गए दूसरे सेमीफाइनल में इंग्लैंड को 2-1 से मात दी.

क्रोएशिया पहले हाफ में एक गोल से पीछे थी, लेकिन दूसरे हाफ में उसने मैच का पासा पलट दिया और बराबरी का गोल किया. तय समय में मैच 1-1 की बराबरी पर खत्म हुआ और मैच अतिरिक्त समय में गया जहां मांडजुकिक ने गोल कर अपनी टीम के लिए इतिहास रचा.

छोटा देश,पर कमाल बड़ा
68 साल में पहली बार क्रोएशिया जैसे छोटे देश की टीम फाइनल में पहुंची है. इससे पहले उरुग्वे ने यह कमाल 1950 में किया था. बता दें कि क्रोएशिया की आबादी  4,000,000  है. इससे पहले 1998 में क्रोएशिया ने विश्व कप में धमाकेदार प्रदर्शन किया था,पर उस वक्त वे सिर्फ सेमीफाइनल तक ही पहुंचे थे.

ऐसा रहा सफर
क्रोएशिया ने 2014 के रनर्स-अप अर्जेंटीना, नाइजीरिया और आईसलैंड को ग्रुप स्टेज पर हराया. पेनल्टी शूटआउट में क्रोएशिया ने सेमीफाइनल में जगह बनाई थी. अंतिम 16 के मुकाबले में क्रोएशिया ने डेनमार्क को 3-2 से हराया. वहीं, क्वार्टर फाइनल मुकाबले में पेनल्टी शूटआउट के दौरान इस टीम ने मेजबान रूस को 4-3 से हराया.

कैसे मजबूत होती गई क्रोएशिया
अपनी मजबूत मिडफील्ड के लिए जानी जाने वाली इस टीम ने 19 से 23वें मिनट के भीतर तीन मौके बनाए. पेरीसिक ने अच्छी तरह से अपने लिए स्पेस बनाने के बाद गेंद को गोल पोस्ट में डालना चाहा,लेकिन उनका शॉट वॉल्कर से पैर से टकरा गया. अगले ही मिनट एंटे रेबिक ने इंग्लैंड के एश्ले यंग को तो छका दिया लेकिन वो जॉन स्टोन्स को पार नहीं कर पाए. 23वें मिनट में पेरीसिक एक बार फिर गेंद को नेट में डालने से चूक गए. पहले हाफ में एक गोल खाने के बाद दूसरे हाफ में क्रोएशिया ने वो खेल दिखाया जिसने इंग्लैंड को मिनट दर मिनट बीतने के साथ ही पीछे धकेला. 

वो ज्यादा अटैक कर रही थी और गेंद को उसने अपने पास भी ज्यादा रखा. वहीं इंग्लैंड ने इस हाफ में कुछ और मौके गंवाए. क्रोएशिया हिम्मत नहीं हार रही थी और 68वें मिनट में पेरिसिक ने बराबरी का गोल दाग कर उसमें नई जान फूंक दी. पेरिसिक ने वॉल्कर को छकाते हुए गेंद सिमे वसाल्जको को दी, जिन्होंने पेरीसिक को रिटर्न पास दिया और इस बार पेरीसिक ने मौका नहीं गंवाया. इस गोल ने क्रोएशिया की टीम में उत्साह भर दिया. तीन मिनट बाद उसने अपने स्कोर का आंकड़ा दो कर दिया होता.

लेकिन पहले पेरिसिक की किक गोलपोस्ट से टकरा कर वापस आ गई और फिर रेबिक रिबाउंड पर गोल नहीं मार पाए. यहां से क्रोएशिया ने पूरी तरह से इंग्लैंड पर दवाब बना लिया, हालांकि इस दवाब में इंग्लैंड के गोलकीपर जॉर्न पिकफोर्ड बिना किसी परेशानी के अपना काम करते रहे और क्रोएशिया को कई मौकों पर दूसरा गोल करने से महरूम रखा. नतीजन मैच तय समय में बराबरी पर खत्म हुआ. अतिरिक्त समय के दूसरे हाफ में मांडजुकिक ने बेहतरीन गोल कर क्रोएशिया की जीत पक्की की.