प्रदेश विशेष
मुंडका-बहादुरगढ़ मेट्रो लाइन के उद्घाटन पर PM मोदी ने कहा,आज हम मेट्रो कोच एक्सपोर्ट कर रहे हैं
नई दिल्ली,24/जून/2018/ITNN>>> प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज दिल्ली मेट्रो की ग्रीन लाइन का वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए उद्घाटन किया. 11.2 किलोमीटर लंबे मुंडका - बहादुरगढ़ लाइन में सात स्टेशन हैं. इसके चालू होने के साथ मौजूदा ग्रीनलाइन का इंद्रलोक से मुंडका तक विस्तार हो गया है. मुंडका-बहादुरगढ़ लाइन पर सेवा शुरू होने के साथ दिल्ली मेट्रो का नेटवर्क 288 किलोमीटर तक बढ़ जाएगा जिसमें 208 स्टेशन होंगे. उद्घाटन के मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि बहादुरगढ़ हरियाणा का तीसरा बड़ा क्षेत्र है जो दिल्ली मेट्रो से जुड़ा. उन्होंने कहा,दिल्ली में चल रही मेट्रो ने जिंदगी को बदला है. 

मैंने भी मेट्रो का सफर किया है. बहादुरगढ़ में उद्योग-धंधों की वजह से काफी समय से मेट्रो की मांग चल रही थी. मेट्रो चलने से अब दिल्ली और बहादुरगढ़ के लोगों को काफी फायदा होगा. उन्होंने मेक इन इंडिया का जिक्र करते हुए कहा कि अब हम दुनिया के कई देशों को मेट्रो का कोच एक्सपोर्ट कर रहे हैं. देश में जहां भी आज मेट्रो बन रही है केंद्र और राज्य सरकार के सहयोग से बन रहा है. उद्घाटन के मौके पर पार्क पार्किंग मेट्रो स्टेशन पर हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल,केंद्रीय शहरी एवं आवास राज्य मंत्री हरदीप सिंह पूरी और कृषि मंत्री ओमप्रकाश धनखड़ मौजूद थे. 

एक सरकारी प्रवक्ता ने प्रोजेक्ट की जानकारी देते हुए बताया कि मुंडका से बहादुरगढ़ इस ग्रीन लाइन ट्रैक पर चार स्टेशन दिल्ली क्षेत्र में बने हैं जबकि तीन स्टेशन बहादुरगढ़ क्षेत्र में बनाए गए हैं. एमआईई स्टेशन,बस स्टैंड और सिटी पार्क मैट्रो स्टेशन के माध्यम से पश्चिमी हरियाणा के लोगों का जुड़ाव मेट्रो के माध्यम से राजधानी से सीधा होगा.उन्होंने बताया कि बहादुरगढ़ क्षेत्र में बने मेट्रो स्टेशन की कनेक्टिविटी इंद्रलोक व कीर्ति नगर से होगी और प्रतिदिन करीब एक लाख यात्री इस मेट्रो योजना से लाभ पाएंगे. 

सिटी पार्क मेट्रो के पास मौजूद लोगों का कहना है कि उन्हें इस मेट्रो के चलने से काफी फायदा होगा,क्योंकि इस शहर से दिल्ली तक जाने के लिए पब्लिक ट्रांसपोर्ट के तौर पर सिर्फ बस ही मौजूद थी और सड़क के जरिये जाने की वजह से तकरीबन 2.30 से 3 घंटे लगते थे. लेकिन अब ये दूरी सिर्फ 25-30 मिनट में तय हो जाएगी और सबसे ज्यादा फायदा कर्मचारियों और स्टूडेंट्स को होगा. हालांकि यहां के लोगों में थोड़ी नाराजगी इस बात को लेकर है कि बहादुरगढ़ में 3 मेट्रो स्टेशन होने के बाद भी किसी भी स्टेशन का नाम बहादुरगढ़ के नाम पर नहीं रखा गया है.