प्रदेश विशेष
महबूबा के खिलाफ 3 विधायकों की बगावत,बोले- PDP अब फैमिली डेमोक्रेटिक पार्टी बन चुकी है
श्रीनगर,03/जुलाई/2018/ITNN>>> जम्मू-कश्मीर में भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) द्वारा हाथ खींचे जाने के बाद सत्ता से बेदखल हुई पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) में अब बगावती सुर उठने लगे हैं. तीन विधायकों ने पीडीपी प्रमुख और पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती पर पीडीपी को फैमिली डेमोक्रेटिक पार्टी बनाने का आरोप लगया है. महबूबा मुफ्ती के खिलाफ आवाज उठाने वालों में शामिल पूर्व मंत्री इमरान अंसारी ने कहा,मुफ्ती मोहम्मद सईद (महबूबा के पिता) ने वंशवाद और एक परिवार की राजनीति को खत्म करने के लिए पीडीपी का गठन किया था. 

लेकिन उनकी मौत के बाद महबूबा ने पार्टी को फैमिली डेमोक्रेटिक पार्टी में तब्दील कर दिया. पार्टी में मामा,मौसा,चाचा और भाई हैं. उन्होंने कहा कि अच्छा होगा की हम पार्टी छोड़ दें. हम पार्टी के लिए क्या कर सकते हैं? जब कुछ लोगों ने पार्टी को हाइजैक कर लिया है. उन्होंने आगे के कदमों यानि किसी अन्य पार्टी में शामिल होने के सवाल पर कहा कि वह जल्द ही फैसला लेगे. पूर्व मंत्री ने कहा,जिस पार्टी में फैमली राज नहीं होगा और बहादुर लोग उसका नेतृत्व कर रहे होंगे उस पार्टी में शामिल हो सकते हैं. अगल लोगों के लिए 50 पार्टी में जाने की जरूरत होगी तो हम जाएंगे. 

उन्होंने हाल ही में बीजेपी द्वारा समर्थन खींचे जाने को लेकर कहा कि सत्ता की लालच में कश्मीर को गलत रास्ते पर धकेल दिया गया. महबूबा मुफ्ती के खिलाफ बगावती सुर अख्तियार करने वालों में अंसारी के अलावा अबीद हुसैन अंसारी और मोहम्मद अब्बास वानी शामिल हैं. हुसैन अंसारी ने इमरान के आरोपों पर हामी भरते हुए कहा कि वह विधायकों को कोई तव्वजों नहीं देती हैं और वह नौकर की तरह व्यवहार करती हैं. वहीं अब्बास वानी ने कहा कि पार्टी को हाईजैक किया गया है इसे स्वीकार नहीं किया जा सकता है. 

उन्होंने कहा कि अंसारी ने पिछले चुनाव में कई सीटों पर जीत दिलवाई लेकिन उनके योगदान को भुला दिया गया. आपको बता दें कि 89 सीटों वाले जम्मू-कश्मीर विधानसभा में पीडीपी के 28 विधायक हैं. पिछले महीने बीजेपी ने महबूबा मुफ्ती की कार्यप्रणाली पर सवाल उठाते हुए तीन साल पुराना गठबंधन तोड़ लिया था. जिसके बाद बहुमत से दूर महबूबा ने मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया था. राज्य में फिलहाल राज्यपाल शासन लागू है. 12 सीटों वाली कांग्रेस ने किसी से भी गठबंधन करने से फिलहाल इनकार किया है.