Rajnath Singh, India Pakistan border, who arrived on the Jammu and Kashmir tour
प्रदेश विशेष
जम्मू-कश्मीर के दौरे पर पहुंचे राजनाथ सिंह,भारत-पाक बॉर्डर भी जाएंगे
श्रीनगर,07/जून/2018/ITNN>>> केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह सुरक्षा हालात का जायजा लेने राज्य के दो दिवसीय दौरे पर आज जम्मू-कश्मीर में हैं। सिंह यहां पर आतंकवाद रोधी अभियानों को स्थगित करने के निर्णय की समीक्षा करेंगे और एक सीमावर्ती जिले का दौरा करेंगे। एक अधिकारी ने बताया कि गृहमंत्री मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती द्वारा दिए जाने वाले इफ्तार में भी शामिल हो सकते हैं। बता दें कि सिंह अपने दौरे में राज्य की वर्तमान स्थिति विशेषकर सीमावर्ती क्षेत्र एवं अशांत घाटी के हालात की समीक्षा करेंगे। 

घाटी में हाल में हिंसा की विभिन्न घटनाएं हुई हैं। एक अधिकारी ने बताया कि 16 मई के बाद की स्थिति की विस्तार से समीक्षा की जाएगी जब केन्द्र ने रमजान के महीने में आतंकवाद रोधी अभियानों को एकपक्षीय ढंग से स्थगित करने का निर्णय किया था। सिंह राज्यपाल एन.एन.वोहरा,मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती,शीर्ष असैन्य अधिकारियों,पुलिस एवं अद्धसैनिक बलों के अधिकारियों से मुलाकात करेंगे। अधिकारी ने बताया कि गृह मंत्री इस बारे में भी कुछ घोषणा कर सकते हैं कि क्या अभियान को ईद के बाद तथा 28 जून से शुरू होने जा रही अमरनाथ यात्रा में भी लागू किया जाएगा। 

उन्होंने बताया कि सिंह की सुरक्षा बलों के शीर्ष अधिकारियों से बातचीत में पथराव की हाल की घटनाओं,कश्मीर घाटी में सुरक्षा बलों पर हमले, सीमा के पास घुसपैठ की घटनाएं जैसे मुद्दे भी उठने की संभावना है। गृह मंत्री की यात्रा ऐसे समय में हो रही है जब हुर्रियत कांफ्रेंस से बातचीत की पेशकश की गई है। हुर्रियत ने भी यह स्पष्ट कर दिया है कि वह बातचीत के लिए तभी राजी होगी जब पहल को लेकर स्पष्टता हो,जम्मू-कश्मीर को विवादित घोषित किया जाए तथा कुछ अन्य मांगों को मान लिया जाए।

सिंह अपनी यात्रा के दूसरे दिन जम्मू जाएंगे और अंतर्राष्ट्रीय सीमा की स्थिति की समीक्षा करेंगे। इस क्षेत्र में पाकिस्तानी सेना द्वारा की गई गोलाबारी में एक दर्जन सुरक्षार्किमयों सहित कम से कम 20 लोग मारे गए थे। केंद्र सरकार पहले ही यह निर्णय कर चुकी है कि जम्मू-कश्मीर में 28400 से अधिक बंकर बनाए जाएंगे ताकि भारत-पाक सीमा के समीप रहने वाले जम्मू-कश्मीर के निवासियों की सुरक्षा की जा सके। इन लोगों को पाकिस्तानी पक्ष की ओर से अक्सर की जाने वाली गोलाबारी का सामना करना पड़ रहा है।