प्रदेश विशेष
NAMO एप से किसानों से जुड़े PM मोदी,बोले-किसानों के हित में करेंगे काम
नई दिल्ली,02/मई/2018 (ITNN) >>> कांग्रेस पर किसानों के नाम पर राजनीति करने और भावनाएं भड़काने का आरोप लगाते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज कहा कि कृषि और किसान कल्याण उनकी सरकार का चरित्र और सोच का अभिन्न हिस्सा है तथा अभी तक जितने भी बजट उनकी सरकार ने पेश किए हैं,उनके केंद्र में हमेशा किसान ही रहा है। भाजपा की कर्नाटक किसान इकाई के कार्यकर्त्ताओं से नरेंद्र मोदी एप के जरिए संवाद करते हुए मोदी ने कहा,केंद्र सरकार किसान की आय दोगुना करने पर काम कर रही है।

मोदी के संबोधन के प्रमुख अंश
* हमारी सरकार ने अभी तक जितने भी बजट पेश किए हैं उनके केंद्र में हमेशा किसान ही रहा है।

* केंद्र किसानों के लिए सतत काम कर रहा है,लेकिन कर्नाटक की सरकार उस काम को आगे नहीं बढ़ा रही है।

* कांग्रेस और कर्नाटक की सिद्धरमैया सरकार पर निशाना साधते हुए प्रधानमंत्री ने कहा,किसानों के बारे में कांग्रेस की सोच केवल भाषणों और जुबानी सहानुभूति तक ही सीमित है।   

* कांग्रेस ने किसानों के नाम पर केवल राजनीति की,झूठी खबरें फैलाई और किसानों की भावनाएं भड़काने का काम किया।  
    
* जब इतना झूठ फैलाया जा रहा हो,तब किसान मोर्चा के कार्यकर्त्ताओं का दायित्व बढ़ जाता है। उन्हें सरकार की किसान कल्याण योजनाओं के बारे में लोगों को बताना चाहिए। यह जानकारी भी उन्हें देनी चाहिए कि इन योजनाओं से किसान लाभ कैसे उठा सकते हैं।     

* हमारी सरकार ने देशभर के किसानों को सॉइल हेल्थ कार्ड दिए हैं। अकेले कर्नाटक में ही 1 करोड़ से अधिक सॉइल हेल्थ कार्ड दिए गए हैं।

* कृषि ऋण के मद में 11 लाख करोड़ भी रुपए दिए गए जो अब तक रिकार्ड है।

* किसानों को बीज आसानी से मिल रहा है,वहीं नई तकनीक के जरिए खेती की जानकारी भी दी जा रही है।     

* केंद्र सरकार ने नई उर्वरक नीति तैयार की है,जिससे अब किसानों को खाद के लिए सड़कों पर घूमना नहीं पड़ रहा है।

* एनपीके खाद की कीमतों में कमी आई है और किसान मोर्चा के कार्यकर्त्ता इस बारे में किसानों को बताएं।      

* जब बी.एस.येदियुरप्पा कर्नाटक के मुख्यमंत्री बनेंगे तो केंद्र की योजनाओं को आगे बढ़ाने में मदद मिलेगी। 
    
* देश में पहले भी योजनाएं चलती थीं,लेकिन अब जिस तरह से काम हो रहा है उससे किसानों को लाभ मिला है। 
    
* हमने जो रास्ता चुना है,उससे उत्तम परिणाम मिलेंगे। हमारा इरादा उन परिणामों को हासिल करने का है जो 70 साल में नहीं मिल पाए 
   
* देश में अटकी करीब 100 परियोजनाओं को तय समय में पूरा किया जाएगा,जिसमें एक लाख करोड़ का खर्च आएगा। कर्नाटक में भी पांच लंबित परियोजनाओं को पूरा करने की पहल की गई है।