प्रदेश विशेष
मिजोरम में बारिश से भारी तबाही,150 परिवारों को अब तक बचाया गया
नई दिल्ली,13/जून/2018/ITNN>>> मिजोरम में रविवार से हो रही बारिश ने बड़े स्तर पर तबाही मचाई है। कई जगह खेत भी पानी में डूब चुके हैं और बाढ़ का पानी लगातार बढ़ता जा रहा है। भारी बारिश के बाद आई बाढ़ में राज्य के लुंगलेई जिले में फंसे 150 परिवारों को अब तक सुरक्षित निकाला गया है। मौसम विभाग के मुताबिक मानसून अपनी नार्मल रफ्तार से आगे बढ़ रहा है,जिसके मुताबिक उत्तर-पूर्व के राज्यों में अगले 24 घंटो में भारी बारिश होने की आशंका है और इसलिए यहां अलर्ट जारी किया गया है। 

विभाग ने कहा कि आज नागालैंड, मणिपुर, मिजोरम, त्रिपुरा और असम में भारी बारिश हो सकती है। जानकारी मुताबिक मिजोरम की राजधानी आइजोल को जोडऩे वाली कई सड़कें टूट गई हैं। लेंगपुई एयरपोर्ट की तरफ जाने वाली राज्‍ष्‍ट्री राजमार्ग 54 भी मिट्टी धंसने की वजह से बंद हो गई है। रास्‍ता चालू करने की कोशिश में पूरी मशीनरी लगी है। सरकारी कार्यालयों की हालत भी बुरी है। उन्‍हें काफी हानि पहुंची है। बिजली की तार के खंभे जहां-तहां गिरे पड़े हैं।

वहीं दक्षिण पश्चिम मानसून ओडिशा और गांगेय पश्चिम बंगाल के कुछ हिस्सों में तथा उत्तर-पश्चिम बंगाल की खाड़ी, अरुणाचल प्रदेश, असम, मेघालय और सिक्किम के अधिकतर हिस्सों में पहुंच चुका है। मॉनसून के कमजोर पडऩे के कारण अगले सप्ताह इसके आगे नहीं बढाने का अनुमान है। उत्तर प्रदेश, हिमाचल प्रदेश, पश्चिम राजस्थान, सौराष्ट्र और कच्छ के कुछ हिस्सों में दिन का तापमान सामान्य से बहुत अधिक ऊपर रहा। इसके साथ ही उत्तराखंड, हरियाणा, जम्मू-कश्मीर, पूर्वी राजस्थान और गुजरात के कुछ हिस्सों में तापमान सामान्य से ऊपर रहा। 

ओडिशा और मध्य प्रदेश के कुछ हिस्सों में तापमान सामान्य से बहुत अधिक नीचे रहा जबकि झारखंड के कुछ हिस्सों में तापमान सामान्य से नीचे रहा। देश के मैदानी इलाके जैसलमेर और बीकानेर (पश्चिम राजस्थान) और कानपुर (पूर्वी उत्तर प्रदेश) में अधिकतम तापमान 44.8 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। दक्षिण पश्चिम मानसून नागालैंड, मणिपुर, मिजोरम, त्रिपुरा, पश्चिम बंगाल और सिक्किम, विदर्भ, छत्तीसगढ़, तेलंगाना, दक्षिण आंतरिक कर्नाटक और केरल में दक्षिण पश्चिम मानसून अति सक्रिय है।

अगले 24 घंटे में असम, मेघालय, नागालैंड, मणिपुर, मिजोरम और त्रिपुरा में कहीं कहीं बहुत तेज और कहीं कहीं अति वृष्टि का अनुमान है। केरल के कुछ हिस्सों में तेज और अलग-अलग स्थानों पर बहुत भारी बारिश हो सकती है। इसके साथ ही पश्चिम बंगाल के पर्वतीय क्षेत्र, सिक्किम, उत्तर तटीय आंध्र प्रदेश, तटीय और दक्षिण आंतरिक कर्नाटक के अलग अलग स्थानों पर बहुत तेज बारिश हो सकती है। अरुणाचल प्रदेश, गांगेय पश्चिम बंगाल, ओडिशा, दक्षिण कोंकण और गोवा, दक्षिण छत्तीसगढ़ और तमिलनाडु के अलग अलग हिस्सों में तेज बारिश होने के आसार हैं। 

ओडिशा, झारखंड, बिहार, विदर्भ, दक्षिण छत्तीसगढ़, उत्तर तटीय आंध्र प्रदेश और तेलंगाना के अलग-अलग जगहों पर आंधी और तूफान के साथ बारिश हो सकती है। गोवा, कर्नाटक, तटीय कर्नाटक, तटीय तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश, ओडिशा, तटीय पश्चिम बंगाल, दक्षिण पश्चिम अरब सागर, तटीय ओमान के पश्चिम मध्य अरब सागर में 35-45 किमी की तेज गति से हवा चल सकती है जिसकी गति 55 किमी तक पहुंच सकती है। मछुआरों को समुद्र में नहीं जाने की सलाह दी गई है। 

पिछले 24 घंटे में अरुणाचल प्रदेश, असम, मेघालय, नागालैंड, मणिपुर, मिजोरम, त्रिपुरा, पश्चिम बंगाल के पर्वतीय क्षेत्र, सिक्किम, कोंकण, गोवा, तटीय कर्नाटक, केरल और अंडमान निकोबार द्वीप समूह के अधिकतर हिस्सो में तथा गांगेय पश्चिम बंगाल, विदर्भ, छत्तीसगढ़, दक्षिण आंतरिक कर्नाटक, तेलंगाना और लक्षद्वीप के कई स्थानों पर बारिश हुई। इसके साथ ही ओडिशा, झारखंड, बिहार, पश्चिम मध्य प्रदेश, पूर्वी मध्य प्रदेश, तटीय आंध्र प्रदेश और उत्तर आंतरिक कर्नाटक के कुछ स्थानों पर तथा पूर्व उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश, जमू कश्मीर, राजस्थान, गुजरात, मध्य महाराष्ट्र, मराठवाड़ा, रायलसीमा और तमिलनाडु के अलग अलग हिस्सों में बारिश हुई या फिर गरज के साथ छींटे पड़े।