प्रमुख समाचार
हत्याओं पर बोली कांग्रेस - मोदी के न्यू इंडिया के प्रतीक बने अराजकता और जंगलराज
नई दिल्ली,03/जुलाई/2018/ITNN>>> देश के अलग-अलग राज्यों में बच्चा चोरी की अफवाह के बाद भीड़ की तरफ से लगातार हत्याएं की जा रही हैं. इन अफवाहों के चलते भीड़ ने अबतक 21 लोगों की जान ले ली है. इस मामले ने अब राजनीतिक रूप ले लिया है. कांग्रेस ने इसको लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमला बोला है. कांग्रेस ने तंज कसते हुए कहा है कि देश में अराजकता और जंगलराज मोदी के न्यू इंडिया के प्रतीक बन गए हैं.

जो 70 साल में नहीं हुआ,इन 4 सालों में हो गया- कांग्रेस
मॉब लिंचिंग की घटनाओं पर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अभिषेक मनु सिंघवी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा है कि अराजकता और जंगलराज पीएम मोदी के न्यू इंडिया के प्रतीक बन गए हैं. आज पूरे देश में अफवाहों का राज चल रहा है. उन्होंने कहा है,भीड़ की हिंसा कभी देखी सुनी नहीं गई. दूसरे देश हमारे बारे में क्या सोच रहे होंगे. जो 70 साल में नहीं हुआ वो इन चार सालों में हो गया.

ऐसी घटनाओं को समर्थन देती है मौजूदा सरकार- कांग्रेस
सिंघवी ने आगे कहा,इन चार सालों में अविश्वास नया हुआ है. संकेतों से मौजूदा सरकार ऐसी घटनाओं को समर्थन देती है. चार सालों में असहिष्णुता का नया लाईसेंस जारी कर दिया गया है. बिना किसी दया भाव के ऑन द स्पॉट न्याय का सिलसिला चल रहा है. ऐसा वातावरण पहले कभी नहीं था. ये बीते चार सालों में हर साल बढ़ा है. बल्कि प्रोत्साहित किया गया है.

एक महीने में 28 वारदातें हुईं- कांग्रेस
कांग्रेस नेता ने कहा,एक महीने में 28 वारदातें हुई हैं. यानी रोज एक घटना. अहम बात ये है कि इनमें गाय के मामले शामिल नहीं हैं. महाराष्ट्र से लेकर त्रिपुरा तक ऐसी घटनाएं हो रही है. असम की सरकार जिस व्यक्ति को अफवाह रोकने के काम और लगाती है उन्हीं की लिंचिंग हो गई.

हुक्मरानों के आदेशों पर भेड़िया बन जाती है भीड़- कांग्रेस
अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा,देश में क्या हो रहा है? इस पर राजनीति नहीं होनी चाहिए. बल्कि कानून को कड़ाई से लागू करना चाहिए. भीड़ कभी भी भेड़िया बन सकती है. इसको ना रोकना खतरनाक है. ये भीड़ हुक्मरानों के आदेशों पर भेड़िया बन जाती है. आरोप प्रत्यारोप की जगह हमें परिणाम चाहिए.

क्या है मामला?
बता दें कि देशभर में बच्चा चोर के नाम पर आम लोगों की पीट-पीटकर हत्या (मॉब लिंचिंग) का सिलसिला दिन पर दिन बढ़ रहा है. अब तक 21 लोगों की भीड़ अपना शिकार बना चुकी है. रविवार को ही भीड़ ने महाराष्ट्र के धुले में पांच लोगों की पीट-पीटकर हत्या कर दी थी. वहीं सोमवार को महाराष्ट्र के ही नासिक में तीन लोगों पर भीड़ ने हमला कर दिया. हालांकि वहां पहुंची पुलिस ने तीनों को भीड़ के आतंक से बचा लिया.

बच्चा चोर की अफवाह केवल मध्य प्रदेश या महाराष्ट्र में ही नहीं है. त्रिपुरा, गुजरात, असम, झारखंड, कर्नाटक, पश्चिम बंगाल में बच्चा चोर की बड़े स्तर पर अफवाह है. पिछले दिनों उत्तर प्रदेश के रेहड़ी वालों की त्रिपुरा में भीड़ ने बच्चा चोर समझकर हत्या कर दी थी. वहीं असम के कार्बि आंगलांग में दो युवकों की भीड़ ने हत्या कर दी थी. गुजरात के करीब 13 जिलों में बच्चा चोर की अफवाह है.

सोशल मीडिया से फैल रही है अफवाह
दरअसल बच्चा चोर की अफवाह सोशल मीडिया पर फैली हुई है. वीडियो के साथ मैसेज भी लिखा होता है,बच्चा चोर गैंग चोरी करके बच्चों की किडनी और गुर्दा निकाल कर ऐसा हाल (लहुलुहान तस्वीर) कर देता है. डर का आलम यह है की लोगों ने तो अपने बच्चों को स्कूल भेजना तक बंद कर दिया है. कुछ लोग स्कूल तो भेज रहे हैं लेकिन खुद उन्हें स्कूल ले जाते और ले आते हैं. 

खेलने पर भी बच्चों पर पाबंदी लगा दी गई है. पड़ताल में पता चला है कि सिर्फ़ इंटरनेट पर वायरल हो रही तस्वीरों की वजह से लोगों में डर बैठ चुका है. पड़ताल में पता चला कि किडनी और बच्चों को चुराने वाले शख्स को अबतक किसी ने देखा नहीं है लेकिन सुनी सुनाई बातों के चलते अफवाह फैली हुई है.