प्रमुख समाचार
केंद्र सरकार की नीतियों से देश में होगा गृहयुद्ध: ममता बनर्जी
नई दिल्ली,31/जुलाई/2018/ITNN>>> पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने एक बार फिर असम में जारी नैशनल रजिस्टर ऑफ सिटिजन के फाइनल ड्राफ्ट पर 40 लाख लोगों के नाम नहीं होने पर मोदी सरकार पर हमला बोला है। उन्होंने कहा कि एनआरसी के पीछे राजनीतिक मकसद,हम ऐसा होने नहीं देंगे। ममता बनर्जी ने कहा कि केंद्र सरकार लोगों को बांटने की कोशिश कर रहे हैं,उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार की नीतियों से देश में रक्तपात और गृहयुद्ध होगा। 

ममता ने आधार कार्ड है,पासपोर्ट भी है,लेकिन लिस्ट में लोगों का नाम नहीं है। लोगों के नाम लिस्ट में से इरादतन हटाए गए। सरनेम देखकर लोगों का नाम एनआरसी की लिस्ट से हटाया गया। ममता ने कहा कि सिर्फ चुनाव जीतने के लिए ही लोगों पर अत्याचार नहीं किया जा सकता है। गौरतलब है कि असम में राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (एनआरसी) का अंतिम मसौदा 2.89 करोड़ नामों के साथ सोमवार को जारी किया गया लेकिन इसमें 40 लाख लोगों के नाम शामिल नहीं किए गए हैं। 

अंतिम मसौदे में कुल 3,29,91,384 आवेदकों में से 2,89,84,677 के नाम शामिल किए गए हैं लेकिन 40,07,707 आवेदकों के नाम छोड़ दिए गए हैं। अंतिम मसौदे को जारी करने के बाद एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए भारत के महापंजीयक शैलेष ने कहा,यह एनआरसी के अंतिम मसौदे के प्रकाशन के रूप में एक मील का पत्थर साबित होगा और यह हम सभी के लिए एक ऐतिहासिक क्षण है। उन्होंने जोर दिया कि यह केवल अंतिम मसौदा था और सभी दावों और आपत्तियों के निपटारे के बाद समग्र एनआरसी का प्रकाशन किया जाएगा।