प्रमुख समाचार
नियम बदले,अब ऐसे पढ़ाई,शादी,घर और बीमारी के लिए निकाल सकते हैं PF से पैसे
नई दिल्ली,10/जुलाई/2018/ITNN>>> वेतनभोगियों के फंड का रखरखाव करने वाली सरकारी संस्था कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ) ने नियम में कई बदलाव किये हैं. इसके तहत अगर कोई पीएफ खाताधारी कर्मचारी एक महीने तक बेरोजगार रहता है तो वह ईपीएफओ में आवेदन कर 75 प्रतिशत तक अपनी राशि निकाल सकता है. फिर भी अगर जॉब नहीं मिलती है तो बाकी बचे पैसे को दो महीने बाद निकाला जा सकता है और खाता बंद कर सकते हैं.

साथ ही EPFO ने खाताधारकों को अन्य मौकों पर भी पैसा निकालने की सुविधा दी है. नये नियम के मुताबिक,अपने या बच्चे की शादी,घर खरीदने, बीमारी के इलाज और बच्चों की शिक्षा के लिए पीएफ की राशि निकाली जा सकती है. शादी के लिए निकासी संभव: शादी के लिए पैसे निकालने के लिए EPFO ने शर्त लगाई है कि खाता कम से कम सात साल पुराना होना चाहिए. नियम के मुताबिक,आप अपनी या परिवार में बेटा,बेटी,बहन भाई या अन्य के लिए 50 प्रतिशत तक पैसा निकाल सकते हैं.

बच्चों की पढ़ाई के लिए निकाल सकते हैं पैसे: बच्चों की पढ़ाई के लिए भी पैसा निकाल सकते हैं लेकिन इसके लिए भी जरूरी है की आप सात साल से ईपीएफओ में खाताधारक हों. ईपीएफओ के मुताबिक,आप 10वीं के बाद बच्चों की पढ़ाई के लिए 50 प्रतिशत तक पैसा निकाल सकते हैं. पैसा निकालते समय 10 वीं परीक्षा और आगे की पढ़ाई से संबंधित जानकारी देने होगी.

बीमारी के लिए ईपीएफओ ने बदले ये नियम: अपनी या परिवार के सदस्यों की बीमारी के इलाज के लिए भी पीएफ का पैसा निकाला जा सकता है. नियम के तहत कर्मचारी 6 महीने की बेसिक सैलरी (मूल वेतन) और डाइट अलाउंस (डीए) की निकासी कर सकते हैं. यह सुविधा नये और पुराने दोनों ही सदस्यों के लिए उपलब्ध है. पैसा निकालने के लिए कंपनी और डॉक्टर के साइन की जरूरत होगी.

घर खरीदने के लिए ऐसे निकाले पैसे: ईपीएफओ के खाताधारक घर और फ्लैट्स के लिए भी पैसे निकाल सकते हैं. इसके लिए जरूरी है कि आपका खाता पांच साल पुराना हो. नए नियम के तहत जमीन खरीदने के लिए डीए और दो साल का मूल वेतन वहीं घर या फ्लैट्स के लिए डीए और तीन साल की बेसिक सैलरी निकाली जा सकती है. इस सुविधा का लाभ मात्र एक बार उठाया जा सकता है. रिटायरमेंट से पहले भी पीएफ का पैसा निकाला जा सकता है. कर्माचारी 54 साल की उम्र के बाद रिटायरमेंट से पहले 90 प्रतिशत तक पीएफ निकाल सकते हैं.