Muzaffarpur Kand, Nitish Bolle will be under the supervision of HC, no opposition to politics
प्रमुख समाचार
मुजफ्फरपुर कांड, नीतीश बोले- HC की निगरानी में होगी जांच, राजनीति ना करे विपक्ष
मुज़फ्फरपुर,6/अगस्त/2018/ITNN>>> बिहार के मुज़फ्फरपुर में 34 लड़कियों के साथ दरिंदगी का मामला अब राजनीतिक तूल ले चुका है. इस बीच बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सोमवार को मीडिया से बात की. नीतीश ने कहा कि हमने मामला सामने आने के बाद इसकी जांच सीबीआई को सौंपने को कहा, और तुरंत सीबीआई ने अपना काम शुरू भी कर दिया है. हम चाहते हैं कि हाईकोर्ट की निगरानी में जांच हो.

उन्होंने कहा कि मामले की जांच काफी तेजी से हो रही है. जो बयान दिया गया है वह सरकार का बयान था. ये कहना कि साहब चुप थे, ये कहना सही नहीं है. जब बयान दिया गया है तो वह सरकार का ही बयान है.

बिहार सीएम ने कहा कि मैंने पहले भी कहा है कि ये सिस्टम में खामी का ही नतीजा है. इसके लिए हमने बारीकी से जांच की है, पूरे सिस्टम को ही बदलने की जरूरत है. उन्होंने कहा कि मेरी चुप्पी का गलत मतलब निकाल दिया गया. उन्होंने कहा कि एक-एक फाइल को देखा जा रहा है, मुख्य सचिव के स्तर पर मामले को परखा दिया जा रहा है.

हमारा अगला लक्ष्य है कि इस तरह के सिस्टम को पूरी तरह से बदल दिया जाए. अब गैर-सरकारी संस्था को ऐसे कामों की जिम्मेदारी नहीं दी जाएगी. अब सिर्फ सरकारी संगठन को ही ये दिया जाएगा.

उन्होंने कहा कि मेरी और लालू की पुरानी फोटो निकाली गई और कई तरह के सवाल उठाए गए. नीतीश ने कहा कि उनका बैकग्राउंड पत्रकारिता का था, तब हम कैसे ये तय कर सकते थे कि कौन कैसा है. उन्होंने कहा कि पूरी जांच हो रही है, चाहे मंत्री लेवल का ही मामला क्यों ना हो पूरी जांच हो रही है.

नीतीश ने इस दौरान विपक्ष के धरने प्रदर्शन पर हमला किया. नीतीश ने कहा कि जो लोग धरना प्रदर्शन कर रहे थे, लेकिन वहां पर ही हंस रहे थे. क्या उन्हें चिंताएं नहीं हैं. जो लोग कैंडल मार्च निकाल रहे थे, उनमें कैसे लोग थे. जो भ्रष्टाचार में लिप्त हैं वो ही भ्रष्टाचार के मुद्दे पर प्रदर्शन कर रहे हैं.

लोकसभा में हुआ जमकर हंगामा

आपको बता दें कि मुजफ्फरपुर कांड मामले की गूंज संसद में भी सुनाई दी. कांग्रेस सांसद रंजीत रंजन ने लोकसभा में मुजफ्फरपुर रेप कांड का मुद्दा उठाया. उन्होंने कहा कि हमने सदन से आपराधिक कानून पास किया लेकिन सबूत मिटा दिए जाएंगे तो पीड़ितों को कैसे न्याय मिलेगा.

रंजीत ने कहा कि जिन 40 लड़कियों के बलात्कार की पुष्टि हुई थी उन्हें 3 जगह शिफ्ट कर दिया गया. जिला पुलिस डेढ़ महीने बाद रिपोर्ट दे पाती है. उन्होंने कहा कि रेप कांड की मुख्य गवाह को मधुबनी रखा गया, जहां से वह गायब है. सांसद ने 14 संस्थाओं की जांच की मांग की जहां से बच्चियां गायब हैं.

उन्होंने गृहमंत्री से इस मामले में कार्रवाई की मांग की. आरजेडी सांसद जयप्रकाश यादव ने मुजफ्फरपुर रेप कांड में राज्य सरकार का हाथ होने का आरोप लगाया. उन्होंने कहा कि बच्चियों के साथ बलात्कार हुआ और उनके साथ बहुत की खराब व्यवहार किया गया. स्पीकर ने इस मामले पर हंगामा कर रहे सांसदों से कहा कि सीबीआई जांच चल रही है और ऐसे में अब गृहमंत्री के जवाब देने का कोई औचित्य नहीं है.

गौरतलब है कि बालिका गृह की 34 लड़कियों के साथ बलात्कार की पुष्टि हुई है. जिसके बाद ये मामला देशभर में चर्चा का विषय बना है. बालिका गृह के संरक्षक ब्रजेश ठाकुर को गिरफ्तार कर लिया गया है और उनके एनजीओ के फंड से लेकर ठाकुर के राजनीतिक रिश्तों की भी जांच की जा रही है. आरोप है कि ब्रजेश ठाकुर के राज्य के नेताओं और रसूखदार लोगों के संपर्क हैं.