प्रमुख समाचार
मोदी बोले,गरीबों तक सस्ती दवाइयां पहुंचाना बड़ी चिंता
नई दिल्ली,07/जून/2018/ITNN>>> प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज कहा कि गरीबों के लिए सबसे बड़ी चिंता का विषय दवाओं तक उनकी पहुंच है और केन्द्र सरकार सभी को किफायती स्वास्थ्य सेवाएं मुहैया कराने के लिए लगातार कोशिश कर रही है। मोदी आज सुबह वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए प्रधानमंत्री भारतीय जन औषधि परियोजना (पीएमबीजेपी) और किफायती स्टेंट तथा घुटना प्रतिरोपण के लाभार्थियों से बातचीत कर रहे थे। 

उन्होंने कहा कि तमाम लोग भारतीय जन औषधि परियोजना से लाभान्वित हो रहे हैं। सरकार की इस योजना के तहत लोगों को किफायती दरों पर दवा मुहैया कराई जाती है। बता दें कि मोदी ने 17 जून 2017 को नमो ऐप लॉन्च किया था। पिछले कई दिनों से पीएम इस ऐप से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए आम लोगों से सीधे संवाद कर रहे हैं।

मोदी के संबोधन की खास बातें

हमारी लगातार कोशिश प्रत्येक भारतीय के लिए किफायती स्वास्थ्य सुविधाएं सुनिश्चित करने की है।
 
दवाओं तक पहुंच गरीबों के लिए सबसे बड़ी चिंता है।

भारतीय जन औषधि परियोजना से पूरे भारत में काफी लोग लाभान्वित हो रहे हैं।

सरकार ने स्टेंट की कीमतों में काफी कमी की है और इससे गरीबों तथा मध्यम वर्ग के लोगों को सबसे ज्यादा लाभ हो रहा है।

सेहतमंद भारत बनाने में स्वच्छ भारत मिशन मुख्य भूमिका निभा रहा है।

हमारा लक्ष्य 2025 तक भारत से क्षय रोग को पूरी तरह समाप्त करना है। 

21 जून को आने वाले अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस की पृष्ठभूमि में कहा कि लोग योग का अभ्यास करें और इसे अपने जीवन का हिस्सा बनाएं।

सरकार ने हेल्थकेयर सेक्टर में मिशन मोड में काम किया है जिसमें अमृत जैसी पहल भी शामिल है।

सरकार ने स्टेंट की कीमतों में काफी कमी की है जिससे सबसे ज्यादा लाभ गरीबों और मध्यम वर्ग के लोगों को मिला है।

सरकार का लक्ष्य भारत को 2025 तक क्षय रोग मुक्त बनाना है।

गौरतलब है कि दुनिया को क्षय रोग मुक्त बनाने के लिए वैश्विक लक्ष्य 2030 तक का रखा गया है। अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस,21 जून से पहले प्रधानमंत्री ने आज लोगों से अपील किया कि वे योग अपनाएं और उसे अपने जीवन का अंग बनाएं।