प्रमुख समाचार
पीएम का वार,कहा- विपक्ष के पास मोदी हटाओ के अलावा कोई एजेंडा नहीं
नई दिल्ली,03/जुलाई/2018/ITNN>>> प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने विपक्षी दलों की गोलबंदी पर करारा वार किया है. उन्होंने कहा कि विपक्षी दलों के पास मोदी को हटाने के अलावा कोई एजेंडा नहीं है. उन्होंने पूर्व में कांग्रेस के खिलाफ बने गठबंधन का जिक्र करते हुए कहा,मौजूदा विपक्ष दलों के गठबंधन की तुलना 1977 और 1989 में बने गठबंधन से करना ठीक नहीं होगा. 1977 में गठबंधन का एक मात्र उद्देश्य था लोकतंत्र को बचाना. जो इमरजेंसी की वजह से खतरे में थी. 

1989 में बोफोर्स घोटाले को लेकर पूरा देश आहत था. स्वराज्य इंडिया को दिये गये इंटरव्यू में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कहा,आज के गठबंधन का उद्देश्य राष्ट्र हित में नहीं बल्कि अपना अस्तित्व बचाने और पावर पॉलिटिक्स के लिए है. उनके पास मोदी को हटाने के अलावा कोई एजेंडा नहीं है. ध्यान रहे की कांग्रेस समेत कई विपक्षी दलों ने 2019 के लोकसभा चुनाव में एकजुट होने के लिए कई बैठकें की है. हालांकि अभी तक कोई अंतिम और ठोस निर्णय पर विपक्षी दल नहीं पहुंची है.

कांग्रेस क्षेत्रीय पार्टी बनी
उन्होंने कहा,देश कांग्रेस के गठबंधन के बारे में जाने. 1988 में कांग्रेस के पचमढ़ी सम्मेलन में सोनिया गांधी ने गठबंधन को कुछ दिनों की बात कहा था. तब कांग्रेस चाहती थी कि एक पार्टी की सत्ता हो. पचमढ़ी के घमंड के बाद कांग्रेस गठबंधन के लिए घाट-घाट घूम रही है. मोदी ने कहा,मैं कहता हूं कि कांग्रेस अस्तित्व की लड़ाई लड़ रही है. देश ने कांग्रेस को खारिज कर दिया है. कांग्रेस क्षेत्रीय पार्टी बन गई है.

प्रधानमंत्री ने कहा,कांग्रेस का हाल आपको पता है. गठबंधन को बांधकर कौन रखेगा? देश मानता है कि कांग्रेस सहयोगियों से कैसा बर्ताव करती है. मैं मानता हूं कि कोई महागठबंधन है ही नहीं. ये तो रेस है पीएम बनने की. राहुल गांधी कहते हैं पीएम बनने को तैयार हैं लेकिन टीएमसी तैयार नहीं है. ममता बनर्जी पीएम बनना चाहती हैं लेकिन लेफ्ट को इससे दिक्कत है. ऐसा ही समाजवादी पार्टी को भी लगता है. पूरा ध्यान कुर्सी पर है,जनता के हित में नहीं. मोदी से नफरत विपक्ष को आपस में जोड़ने का हथियार है.

कर्नाटक में विपक्ष की एकता पर क्या बोले पीएम?
कर्नाटक विधानसभा चुनाव के बाद विपक्षी दलों की एकजुटता पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि सरकार में लड़ाईयां चल रही है. विकास का एजेंडा पिछली सीट पर जा चुका है. उन्होंने स्वराज्य इंडिया को दिये इंटरव्यू में कहा,कर्नाटक में जनादेश के साथ धोखा कर सरकार बनाई गई. लेकिन कलह जारी है. मंत्रियों से उम्मीद होती है कि वह विकास के मसले पर बैठक बुलाएंगे लेकिन कर्नाटक में झगड़ा सुलझाने के लिए मीटिंग होती है. विकास को पीछे धकेल दिया गया है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि 2019 का लोकसभा चुनाव बीजेपी विकास के एजेंडे पर लड़ेगी.